Saturday, July 23, 2011

सिन्धियुन जे हकन‍ि वास्ते

सिन्धियुन‍ि जे हकन‍ि जी लड़ाई केरु संभारे !
सिन्धियुन‍ि में बि पैदा थिए को अण्णा हजा़रे.

हरको नेता पंहिंजी पंहिंजी रधे थो खिच‍िणी,
कुझु न थियणो, बिना एकता, सचु आ चव‍िणी.
अचे एकता सिन्धियुन‍ि में हरको थो पुकारे,
सिन्धियुन‍ि में बि पैदा थिए को अण्णा हजा़रे.

हिकिड़ो नेता बिए नेता जी टंग छिके थो,
हिकिड़ो चाहे भलो करणु , बियो दबे छडे॒ थो,
सिन्धियुन‍ि जी अजु॒ नाव हले थी बिना सहारे,
सिन्धियुन‍ि में बि पैदा थिए को अण्णा हजा़रे .

सिन्धियुन‍ि जा कुलु सत्रहां विश्व समेलन थी व्या,
सभु नेताऊँ अची मंच ते भाषण ई व्या ,
मगर अञा पई सिन्धी बोली रोई पुकारे ,
सिन्धियुन‍ि में बि पैदा थिए को अण्णा हजा़रे.

सरकार सां आखिर हीअ लड़ाई केरु लड़े!
कोई त लीडर मरण ताईं उपवासु करे,
हली पुकारियूं दूलह दरि या सिन्धु किनारे,
सिन्धियुन‍ि में बि पैदा थिए को अण्णा हजा़रे.

जंहिं बि लीडर में दमु हुजे आवाज़ उथारे,
रखी जानि हथेली ते पंहिंजो दमु डेखारे,
को त 'खेमाणी' बेड़ो हकन‍ि जो पार उतारे,
सिन्धियुन‍ि में बि पैदा थिए को अण्णा हजा़रे.

भोरा एन खेमाणी
B-3/11, RAVIUDAY SOCIETY,
DATTA MANDIR ROAD, CHENDANI,
THANE (W) - 400601 (MS)
Tel: 022-25368658, Mob: 09821607039
-----
( दादा भोरा एन खेमाणी 'सिन्धी कवी सभा थाणे' जा संस्थापक ऐं संचालक आहिनि. 'सिन्धी कवी सभा थाणे' जो मक़सद आहे - सिन्धी बोलीअ जो वाधारो.)

1 comment:

  1. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! और शानदार प्रस्तुती!
    मैं आपके ब्लॉग पे देरी से आने की वजह से माफ़ी चाहूँगा मैं वैष्णोदेवी और सालासर हनुमान के दर्शन को गया हुआ था और आप से मैं आशा करता हु की आप मेरे ब्लॉग पे आके मुझे आपने विचारो से अवगत करवाएंगे और मेरे ब्लॉग के मेम्बर बनकर मुझे अनुग्रहित करे
    आपको एवं आपके परिवार को क्रवाचोथ की हार्दिक शुभकामनायें!
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

    ReplyDelete