Saturday, March 26, 2011

माउ जी दुआ

माउ जी दुआ
---डॉ ए के पंजवाणी
<ak_panjwani@hotmail.com>

मुंहिंजा बारो
जे तव्हां मूंखे
पीरसने में डिसो

उखिड़ी उखिड़ी चाल डिसो
मुश्किल महीना साल डिसो
धीरजु धरिजो
कोड़ो ढुकु ही चखी डिसिजो
उफ़ न कजो, कावड़ि न कजो
दिल मुंहिंजी खे घाउ न डिजो

हथ मुंहिंजा जे लुण लनि
खाधो गर किरण लगे॒
नफ़रत सां न डिसिजो
बेज़ार न थिजो
न विसारिजो
इन्हन ई हथनि सां
तव्हां खाइणु सिख्यो आ
जड॒हिं तव्हां खाधो
केराईंदा हा
खिली चुमे सीने लाईंदी हुअसि

कपड़ा बदलाइण में जे देर लगे॒ या थकु थिए
सुस्त ऐं काहिल चई वधि बीमार न कजो
न विसारिजो
केडे चाह सां
रंग बिरंगी पहिराण पहिराईंदी हुअसि
डींहं में कई बार कपड़ा बदलाईंदी
हुअसि

मुंहिंजा निल कदम जे जल्दी खजी न सघनि
हथु पकिड़िजो, न विख अगे वधाए वञिजो
न विसारिजो
आङुरि पकिड़े पेरु पेरु खणणु सिख्या हा
मुंहिंजी ई बांहुंनि में
किरी किरी उथणु सिख्या हा

गाल्हाईंदे
गाल्हाईंदे जे रुकिजी वञा
वारि वारि वरजाइण लगां
विसरी
वञे
माज़ीअ में वि
ञाइजी वञा
सवलाईअ सां समझ में न अचे
उलझिजो न, नरमीअ सां समझाइजो
बेज़ार थी घबिराइजी न छिड़िबिजो

कांच जियां नाज़ुक दिल

चूर कजो
न विसारिजो
हिं नंढिड़ा हुआ
सागिई कहाणी कई कई वार
बुधणु चाहींदा हा
ऐं मां कीअं प्यार सां
बार बार बुधाईंदी हुअसि
जेकी चवंदा हा
वरजाईंदी हुअसि


गर विहिंजण में देर थिए
'बू अचे थी' चई न शर्मसार कजो
न विसारिजो
नंढे हूंदे विहिंजण खां विह वेंदा हा

मां मनाइण लाइ शइ ऐं घुमाइण जा वाइदा करे
ऐं कीअं कीअं हीला करे मञाईंदी हुअसि

जे मां जल्दी समझी न सघां
वक्त खां पुठिते रहिजी
वञा
मूं खे हेरत सां न डिसिजो
ठठोली न तंज कजो
मुहलत कुझु डिजो
शायदि मां कुझु सिखी सघां
न विसारिजो
सालनि जी महिनत सां
छा छा तव्हां खे सेखारियो अथमि
खाइणु पीअणु उथणु वेहणु
घुमणु फिरणु लिखणु पढ़णु
अख्यूं अख्‍युनि में विझी ज जे

तव्हां खे अगिते वधायो अथमि

खंघि मुंहिंजी जे करे
निंड जे फिटी पवे
छिड़िडिजो, इएं न चइजो
छा छा खाईंदी रहंदी आं
राति सजी पई खंघंदी आं
न विसारिजो
केतिरियूं रातियूं
हंज में लोडा
सुम्हारिण लाइ
जागी काटियूं अथमि

जे मां न खावां त जो़रु न कजो
जंहिं शइ जी दिल थिए, झल न कजो
परहेज़ चई हर पल न सिकाइजो

कंहिंजो फर्ज़ु आ मूंखे रहाइण जो
हिक बिए सां बहस न कजो
बेकार पाण में न विढ़िजो
कंहिंजी का मजबूरी हुजे त
मथसि को इलज़ामु न धरिजो

जे मां हिक डींहुं चई विझां 'नमुई'
हाणि न आ चाह जीअण जी
इएं बि बोझु बणी पई आं
कोई बि हमराहु न आ
रंजु न थिजु
जीवन जो ही भेदु समझु
साल्हा साल जीअण खां पोइ आखिर
अहिड़ा डींहं बि ईंदा आहिनि
जो जीवन जोति झकी थिअण लगंदी आ
बस साहनि जी लड़ बाकी रहंदी आ
शायदि सुभाणे समझी सघीं
हिन माउ पंहिंजी खे सुञाणे सघीं
गर जीवन जी डोड़ में सभु कुझु मूं विञायो आ
पर हो जेकी दामन में मुंहिंजे
सो सारो निछावर मूं कयो आ
डिनो सचो प्यारु तव्हां खे आ

गर जे मां मरी वञां
मालिक दर दुआ कजां
'रहम अमड़ि मुंहिंजी ते कजां
जीअं कयो हो बालकपण में हुन, तूं कजां'

विसारे न छडिजो
मुंहिंजा बारो
जेसीं जान में जान आ
रवां रतु रगुनि में आ
धड़कन बाकी दिल में आ
खेरु घुरां हरदम तव्हां जोAlign Centreदुआ हर हिकु साहु ही मुंहिंजो

Saturday, March 19, 2011

लघुकथा

लघुकथा
धारणा

लेखक - रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

सिन्धी अनुवाद - देवी नागराणी

मां हिन शहर में बिल्कुल अनजान हुयुस. काफी डुक-डोर करे कंहिं तरह पासी मुहल्ले में हिकु मकान गोल्हे सघ्युस. टियों डींहुं ई कुटिंबु शिफ़्ट कयो हो. गाल्ह‍ि गाल्ह‍ि में आफ़िस में ख़बर पई त मां पंहिंजे कुटुंब सां पासी मुहल्ले में शिफ़्ट करे चुको आह्यां. वड़े साहब छिरकंदे चयो -‘तव्हां पंहिंजे परिवार सां हिन मोहल्ले में रही सघंदा.’

‘छा कुझ गड़बड़ थी वई आहे सर?’ मूं हैरानीअ सां पुछो.
‘ तमाम गंदो मुहल्लो आहे. हिते घणो करे हर डींहं कुझ न कुझ लफड़ो थींदो रहंदो आहे. संभाल सां रहणो पवंदुव.’ साहब जे मथे ते चिन्ता जूं रेखाऊं उभर‍ियूं--‘हीउ मुहल्लो गन्दे मुहल्ले जे नाले सां बदनाम आहे. गुण्डागर्दी ब‍ि कुझ घणी आहे उते.’
मां पंहिंजी सीट ते अची वेठो ई हुयुस त वडो बाबू अची पहुतो-‘सर तव्हां मकान गन्दे मुहल्ले में वरतो आहे. ’
‘लगे थो मूं मकान वठी ठीक न कयो आहे.’ -मूं पछतावे जे सुर में चयो.
‘हा, सर ठीक न कयो आहे. ही मुहल्लो रहण लायक नाहे. जेतरो जल्दी थी सघे, मकान बदले छडियो’ -हुन पंहंज्यूं अनुभवी अख़्यूं मूं ते टिकाए छडियूं.
हिन मुहल्ले में अचण जे करे मां घणी चिंता में पइजी व्युस. घर जे साम्हूं पान-टाफ़ी विकणण वारे खोखे ते नज़र पई. खोखेवारो कारो-कलूटो मुछुनवारो, हिक दम गुण्डो थे नज़र आयो. कचर-कचर पान चबाईंदे हू अञा ब‍ि घणो भवाइतो पे लगो.
सचमुच मां ग़लत जह‍ि ते अची व्यो आह्यां. मूंखे सजी रात ठीक सां निंड न आई. छित ते कंहिंजे टिपण जो आवाज़ु आयो. मुंहिंजो साहु सुकी व्यो. मां डिजंदे
डिजंदे उथ्युस. बिना आहट जे बाहिर आयुस. दिल ज़ोर सां धड़की रही हुई. खु ते नज़र वई, उते हिक बिल्ली वेठी हुई.
जु बिपहरन जो बाज़ार मां अची करे लेटियुस त अख‍ि लगी वई. थोड़ी देर में दरवाज़े ते खड़को थ्यो. दरवाज़ो खुल्यल हो, मां हड़बड़ाइजी करे उथ‍ियुस.
साम्हूं उहोई पान वारो मुछन्दर बीठो मुरकी रह्यो हो. बिपहरन जो सन्नाटो हुयो. मूंखे कट्यो त खून ही न हुजे.
‘छा गाल्ह‍ि आहे? मूँ पुछ्योमांस
‘शायद तव्हांजो ई बार हूंदो. टाफ़ी वठण लाइ मूं वट‍ि आयो. हुन ही नोट मूंखे डिनो’-चवंदे हुन पान वारे सौ जो नोट मूंडे वधायो. मां छिरक्युस. ही सौ जो नोट मुंहिंजी ख़मीस जे खीसे में हो. डिठो - खीसो खाली हो. लगे थो सोनूअ चुपचाप मुंहिंजे खीसे मां सौ जो ही नोट कढी वरतो हो.
‘टाफ़ीअ जा घणा पैसा थ्या?"
‘सिर्फ़ पन्जाहु पैसा, वरी कहिं वठंदोसांव"- हू कचर-कचर पान चबाईंदे मुरक्यो. हुन जो चहरो उजली मुरक में वेढ़ियल हो. -‘चंङो बाबू साहब, प्रणाम ! ’ चई हू मोटी व्यो.
मां ख़ुद खे हींअर तमाम घणो हलको महसूस करे रह्यो होस.

कार्टून कार्नर


कार्टून कार्नर
--प्रो लछमण हर्दवाणी
जापान में आयल भूकंप ऐं सुनामीअ ते कार्टूनकारन जा कार्टून










Tuesday, March 15, 2011

देवयाणी

देवयाणी


मूल लेखिका -डॉ मिथिलेश कुमारी मिश्र


सिन्धी अनुवाद - डॉ ध्रुव तनवानी



जंह‍ि मनु माणहुअ जो गौरव

धरती सां धल आहे

हू माणहू महा सण आ

हू सभ खां श्रेष्‍ठ डो ।1

सिरष्टीअ में सचु इहो आ

माणहूअ खां डो कोई


उन में अण डिठी अणजा

अदभुत समझ अथस‍ि सुतल।1


नर समझे पाण खे नारायण

उन जो इत‍िहास अनोखो

सुख दुख लाहीअ चाढ़ीअ में

उन जी चाल घणी गज़ब थस‍ि।1

माणहूअ जे मधुर मिलन में

कलप जी अमर आखाणी

‌‌‍ धरतीअ जे अंदर मन में

अणणियल लिकल निशानी ।1


ठाहे साहित्य अनोखो

रसु विझी सजायो अथई

भावना जो रूप डिनो

रुप खे वाणी डिनी ।1

माणहूअ जी रचना करे

खुद पाण विधाता थियो वाहरो

करे लख हीला तब मञु

हाणे न उन जो को वसीलो।1

सतो रजो तमो जो संगम

नित जीवन जी नंढी काया

पर जसु बरफ जी चोटीअ वांगे

देवताउन बि शीशु निवायो़ ।1


हू सदा करम जो साधक

उपासक परम पिता जो

इन करो में फहरायो

उन जी जीत जो झंडो।1

पंहिंजे मेहनत जे ब़ल सां हू

करे सघे थो अणकयल बि

हुन सां सभु सुर्गु आ हिते

धरतीअ जी कुंड कुंड ते।1

कार्टून कार्नर







Sunday, March 6, 2011

अप्रेल उणवीह सौ सतहठ

भारत जी आज़ादीअ खां पोइ भारत जो पंहिंजो विधान त्यारु करे 26 जनवरी 1950 खां लागू कयो वियो। उन वक्त विधान जे अठें शेडयूल में भारत जूं चोहं भाषाउनि खे शामिल कयो वियो हो। भारत में सिन्धियुनि जो पंहिंजो प्रांत हुअण करे, उन वक्त सिन्धी भाषा खे विधान में शामिल करण जो वीचारु कंहिं खे बि आयो।

भारत जे विरहाङे खां पोइ पलाण करे, पहिरियां साल सिन्धी दरबदर हुआ। उन वक्त सिन्धियुनि जे साम्हूं हिकु ई मसइलो हो- रोज़गार ऐं घर घाटु ठाहिणु। सिन्धी गुवानन‍ि जो जो ध्यानु सिन्धियुनि खे थांईको करण में लु हो। इएं हो सिन्धी विद्ववान, साहित्यकार माठि करे वेठा हुआ। भली सिन्धी भाषा विधान में शामिल हुई, पर सिन्धी बोली वाहिपे में हुई, सिन्धीअ में साहित्यु लिख्यो पे वियो ऐं सिन्धी अखबारूं ऐं रसाला बि निकिरण शुरू थी विया।

हिं सिन्धी थांईका थ्या सिन्धी भाषा खे भारत जे विधान में शामिल करण जी हलचल शुरू थी। हिं सिन्धी भाषा खे भारत जे विधान में शामिल करण जी मुहिम हली रही हुई, हिं उन वक्त जो ‍श‍िक्षा मंत्री इन जे खिलाफु हो। हुन जो चवणु हो सिन्ध प्रदेश भारत में कोन्हे।

तंहिंते श्री जयरामदास दौलतराम जवाबु डिनो हो सिन्धी बोलीअ जो वास्तो इनसाननि सां आहे, कि ज़मीन सां। असीं सिन्धी गाल्हाईंदड़ इनसान पंहिंजी बोली खणी आया आहियूं।

आखिर अगुवाननि जूं कोशिशूं कामयाब थियूं। 10 अप्रेल 1967, सूमर वार जो डींहुं। उन डींहुं चेटीचंडु जो पवित्र डिणु पिणि हो। सिन्धियुनि जो सभ खां डो डिणु - चेटीचंडु। सिन्धियुनि जे हिन पवित्र डींहं ते भारत जे तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ राधाकृष्णन भारत जे विधान में एकिवीहें बदलाव (The Constitution (Twenty-first Amendment) Act, 1967) खे मंज़ूरी डिनी ऐं सिन्धी भाषा भारत जे विधान में शामिल थी।

सरकार असांजी बोलीअ खे मानु डिनो। पर असीं सिन्धियुनि छा कयो? पंहिंजी माउ (माउ समानु मातृभाषा सिन्धी ) खे पंहिंजे घर मां ‍ध‍िके बाहिर कयो भारत में टिनि किस्मनि जा समाज आहिनि - धर्मी, भाषाई ऐं जातीय समाज। सिन्धी का जाति आहे धर्मु। सिन्धी भाषाई समाज आहे। भारत जे विधान मूजिब सिन्धी उहो आहे जेको सिन्धी गाल्हाए थो।

भारत सरकार त 44 साल अगु चेटीचंड डींहुं सिन्धी भाषा खे पंहिंजे दिल (विधान) में जहि डिनी। हाणे सिन्धियुनि जो वारो आहे। हिन चेटीचंड ते पंहिंजी मातृभाषा सिन्धीअ खे पंहिंजे घर वापस ठी अचण जो संकल्पु कयूं ।

जिनि सिन्धियुनि पंहिंजे बारनि सां, घर जे भातियुनि सां सिन्धीअ में गाल्हाइणु छडे डिनो आहे, उहे नएं सिरे सां शुरूआत करे सघनि था। पंहिंजी माउ समान मातृभाषा खे पंहिंजे दिल में, पंहिंजे घर में वरी वसाए सघनि था। सिन्धी त डी दिल वारा इनसान आहिनि। जेकहिं दिल सां चाहींदा त अंग्रेजी ऐं हिंदीअ सां डु पंहिंजी मातृभाषा सिन्धीअ लाइ बि दिल में थोरी जहि ठही पवंदी।

  • गोपाल हासाणी

Saturday, March 5, 2011

अमां जो पींघो
पसंद कयो वयो अमां जो पींघो
सिन्धी एक्टर सुधीर जो सम्मान

भोपाल में 25 अप्रैल 2010 ते रविन्द्र नाथ टैगोर हॉल में सिन्धी नाटक अमां जो पींघो पेश कयो वयो। अखंड सिंधु संसार विचार मंच पारां थियल प्रोग्राम में मशहूर लेखक श्री वासुदेव निर्मल जे नाटक खे कविता इसराणी जे डाइरेक्शन में पेश करणु भोपाल जे कलाकरन लाइ बि सुठो आजमूदो रहियो।
प्रोग्राम जी खासियत हुई सिन्धी एक्टर सुधीर जो सम्मान । केतरन भाउरन खे खबर आहे सुधीर 1960 में बारूद , 1961 में उम्र कैद , 1962 में प्रेम पत्र ऐं 1964 में हकीकत में हीरो बि रहियो आहे। अटकल 300 हिंदी फिल्मुन में एक्टिंग कई अथायीं। सुधीर सिन्धियत लाइ बि कमु कयो आहे। दिल ड‍िजे दिल वारन खे 2001, प्यार करे डिसु 2006, पाड़ेवारी 2007 ऐं वाइसर गुम 2008 में सुधीर रोल कया आहिन। सुभाव सां सुधीर हिकु विनम्र कलाकार आहे।
सिन्धी नाटक में कैलाश वासवाणी , अशोक मनवाणी, बल्लू चोइथाणी , सुरेश पारवाणी, दीक्षा नेभवाणी , विनायका नेनवाणी, दीपेश पारवाणी, राजेश लालवाणी, प्रेम कुमार सवलाणी, विकास दादलाणी, गोविन्द जेठाणी, प्रेरणा फुलवाणी, अमित बा॒बा॒णी, अर्पित लालवाणी, जय सभनाणी ऐं राकेश शेवाणी अदाकारी कई। कमल जैन लाइट ऐं नरेश गिडवाणी सां गडु॒ अर्पित गीत गाइण जो फर्जु निभायो। मुंबई माँ आयल मशहूर एक्टर सुधीर प्रोग्राम में प्रोफे .सी.एन. मनवाणी जी याद में बेस्ट मेगज़िन अवार्ड इंदौर जे डॉ. नारी ऐं नादिया मसंद खे सिंधु धारा शाय करण लाइ डिनो वयो। मोहन लालवाणी खे समाजशेवा लाइ स्वर्गीय छांगोमल लालवाणी सम्मान, जर्नलिस्म में दिलीप मोटवाणी खे किशन बजाज सम्मान, सिंगिंग लाइ मीरा टेकचंदाणी खे श्रीमती हर्ची देवी लालवाणी कला सम्मान डिनो वयो। अनिल वाधवाणी ऐं हरीश चांदवाणी खे बि सांस्कृतिक खेत्र में सहयोग लाइ सम्मनित कयो वयो। डॉ सी.पी. देवाणी, विद्याराम राजाणी, रमेश बचाणी, भगवानदास सबनाणी, जगदीश साहेता, चेलाराम आनंदाणी, डॉ गोपी बजाज शहर जा कला प्रेमी वडी तादाद में हाजिर हुआ।
रिपोर्ट : अशोक मनवाणी
हिक भलो इन्सान ऐं कामयाब कलाकार - मैक मोहन

थिएटर खां पहिंजी कलायात्रा शुरू करे फिल्म्स में पहुची कामयाबी हासिल करण वारे मैक मोहन साहब 10 मई 2010 ते फ़ानी दुनिया छडे॒ डिनी . हिक बेजोड़ इन्सान हुआ साईं मोहन माखीजाणी । 2 साल पहिंरी मुंबई में मूवी टावर अँधेरी वेस्ट जे मकान नम्बर 154 में हिक मुलाकात में मैक साहब चयो हो - मुंहिंजी ख्वाहिश भोपाल जे भारत भवन ते ड्रामा पेश करण जी आहे . गुज्रिरियल साल इहो कोन थी सघ्यो ऐं हिन साल जहिं मैक साहब खे भोपाल अचण जी नींड डिनी त उन्हन जी तबियत बिगिड़जी चुकी हुई . कुदरत खे इहो मंजूर कोन हो . सुधीर साहब भोपाल आया ऐं 24-25 मइ ते हित सिन्धी ड्रामा जो आनंद वरतुन . संदसि जिगरी दोस्त मैक मोहन खे कोन वठी अचण जो अफ़सोस सुधीर बि जाहिर कयो .
हर कलाकार पंहिंजी बोली खे सम्मान डींदो आहे . मैक मोहन 2001 में सिन्धी फिल्म 'दिल डिजे दिल वारन खे' में बि रोल कयो हो.
शोले मैक मोहन खे अलग सुञाणप डिनी पर एक्टिंग जो सिलसिलो शुरू थियो हो 1964 में हकीकत सां. डान, मि ऐंड मिसेज खिलाडी़, जानी दुश्मन, ज़ंजीर, मजबूर, हेरा फेरी, अल्ला रखा , कर्ज , क़ुरबानी ऐं बियन केतरियुन फिल्म्स में एक्ट करे मैक मोहन पंहिंजो टेलेंट डेखारियो. सुधीर सां गडु॒ सत्ते पे सत्ता, हवेली ऐं सिंधी फिल्म 'दिल डिजे दिल वारन खे' में कमु कयुन.
मैक मोहन जी पत्नी मलयाली भाषी आहे. हिक धीउ, हिकु पुटु अथसि. पाण सिन्धी गाल्हाए फखुरू महसूस कंदा हुआ. मूंखे इंटरव्यू बि सिन्धी में डिनो हुयुन .
संदसि पिता साहब जी आकहि जेके ब्रिटिश आर्मी में कैप्टेन हुआ माखीजाणी हुई. उन्हन खे साथी मैक साहब चवन्दा हुआ . मोहन पुठिते करे ऐं सरनेम अग्याँ करे मैक मोहन साहब हिक खलनायक जे रूप में मशहूर थिया . उन्हन खे शुरुवात में directors , producers चवन्दा हुआ - न हीरो थो लगे॒ न विलेन , बस सरगना जो सिधो या वरी खाबो हथु ठही सघी थो . बस शोले में सरगना जो खास ठही फकत 3 शब्द चई हिट थियण वारे हिन कलाकार खे अलविदा .. भोपाल जे कलाकारन पारां विनम्र श्रधांजलि ... ॐ शांति ..
अशोक मनवाणी
ड्रामा आर्टिस्ट एंड जौर्नालिस्ट
सामीअ जा सलोक
1.
अकथु था कथिनि, साधू जन संसार में,
जिते न मारणु मन जो, तिते साथु सथिनि,
दया धारे दिलि में, सामी सारु सिनि,
विझी नथ नथिनि, था जगियासी जे जीअ खे।
2.
अखिनि मंझि अखियूं, अठई पहर अजीब ज्यूं,
पसी पासो कान कनि, रहनि पिरेम छकियूं,
वञी पुछ तनीं खों, जोड़े जनि रखियूं,
इहा साख सखियूं, सामी डींदइ सिक जी।
Siyaan~o Raajaa

Shaayid~ hee d~uniyaa jo puraan~e me'n puraan~o charcho aahe .2OOO B.C me'n pharaoh je raaj^a me'n .

B^a paar^esree hameshaa paan~a me'n bahis ka'nd~aa raha'nd~aa huaa . Hikr^o ho mochee ai'n b^iyo ho gavaeeo.

Gavaeeo chava'nd~o ho,"T~uhi'njee thak thak hameshaa moohi'nje g^aain~a me'n rolo th~ee vijhe . Maa'n t~aala me'n g^aae nath~o saghaa'n.

Mochee javaab d^ee'nd~o ho,'T~uhi'njo g^aain~ moo'nkhe sat~aae th~o.Ket~raa d~afaa maa'n pahi'nje aa'ng~riun khe mut~arko han~a'nd~o aahiyaa'n ."

So b^aee hina numoone vir^hand~aa vir^hand~aa raajaa vat faisle laai viyaa

Raajaa t~maam dh~iyaan saa'n b^inhee khe b^udh~o ai'n poi chayaaee'n ,'Tavhee'n b^aee ked~aa na bevakoof aahiyo .Kamraa khan~ee mataayo.:.'
chandiramani gl