Saturday, April 16, 2011

मुंहिंजी माउ

मुंहिंजी माउ


हिक भेरो कोई मूंखे मुंहिंजी माउ सां मिलाए!


जिते हूअ मुंहिंजो इन्तजार कंदी मिले


मूंखे डिसी तए में फ़ुलको विझण लाइ भजे


मां रड़ियूं कयां, फ़ुलको पचाए छोन थी रखीं?


मूंखे छिती बुख अचण सां ई लग़ंदी आहे


हूअ चवे तोखे कोसो फ़ुलको वणंदो आहे।


अहिड़ीअ देवी माउ सां कोई मूंखे मिलाए॥


सुबुह थियण सां गाडे वारे ख़ा मूं वठे


वक्त कढी धोई साफ़ करे फ़िर‍िज में रखे


मंझद जो सुम्हण महल आणे चवे खा


मां नखरेली रुखो थी चवां मूंखे न वणंदा आहिन


हूअ चवे तोखे फ़ाइदो कंदा ट्रे खाई छडि।।


अहिड़ीअ देवी माउ सां कोई मूंखे मिलाए।


छंछर शाम वारन में सीरन में तेल विझे


आर्तवार डींहं चवे अचु मथो व‍िंह्जारांइ


मां नखरेली रुखो थी चवां वार मुंझंदा आहिन


हूअ चवे अचु मां थी वारन खे सुल्झायांइ।


अहिड़ीअ देवी माउ सां कोई मूंखे मिलाए।


मां पढ़ण में हुश्यार ए मेहनती हुअस‍ि


माउ पीउ जी लाली बि घणी हुअस‍ि


बीअन सां मुंहिंजे पढ़ण लाइ विढ़ंदी


हूअ चवे मां हिन खे सुम्हंदो न थी डिसां


अहिड़ीअ देवी माउ सां कोई मुखे मिलाए।


--डा ध्रुव गुरबाणी तनवाणी

1 comment:

  1. शानदार रचना आहे, वाधायूं

    ReplyDelete